झूंठ फेर झूंठी कही

उूबा वे सकता नहीं ,उूबा-उूबा जाय ।
फारम भर्यो पंच को , टेको दीजो भाय ।।
टेको दीजो भाय , काले पड़सी वोट ।
मूं मां जायो बीर , कोने म्हारा में खोट ।।
के ’वाणी’ कविराज , झूंठ फेर झूंठी कही ।
जमानता भी जाय , उूबा वे सकता नहीं ।।






लेखक :- अमृत 'वाणी'

कोई टिप्पणी नहीं: